sharab shayari in hindi//sharab shayari

BEWAFA SHAYARI
BEWAFA SHAYARI

sharab  shayari in hindi
sharab shayari
sharab ki shayari in hindi
shayari about sharab
sharab shayari by ghalib

 

shayari on sharab

तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती
मे जवाब बनता अगर तू सबाल होती
सब जानते है मैं नशा नही करता,
मगर में भी पी लेता अगर तू शराब होती!………………

sharab shayari in hindi
sharab shayari
sharab ki shayari in hindi
shayari about sharab
sharab shayari by ghalib

रात गुमसूँ है मगर चेन खामोश नही,
कैसे कहदू आज फिर होश नही,

ऐसा डूबा तेरी आखो की गहराई मैं,
हाथ में जाम है मगर पीने का होश नही.

 

आप को इस दिल में उतार लेने को जी चाहता है,
खूबसूरत से फूलो में डूब जाने को जी चाहता है,
आपका साथ पाकर हम भूल गए सब मैखाने,
क्योकि उन मैखानो में भी आपका ही चेहरा नज़र आता है….

shayari about sharab

तेरा दिल उदास क्यों है?
तेरी आँखों में प्यास क्यों है?
जो छोड़ गया तुझे मझदार में ,
उससे मिलने की आस क्यों है ?
जो दे गया दर्द ज़िन्दगी भर का,
वही तेरे लिए ख़ास क्यों है ??

 

बैठे हैं दिल में ये अरमां जगाये,
के वो आज नजरों से अपनी पिलाये |
मजा तो तब ही पीने का यारो,
इधर हम पियें और नशा उनको आये ||

sharab shayari in hindi

जाने कभी गुलाब लगती हे
जाने कभी शबाब लगती हे
तेरी आखें ही हमें बहारों का ख्बाब लगती हे
में पिए रहु या न पिए रहु,
लड़खड़ाकर ही चलता हु
क्योकि तेरी गली कि हवा ही मुझे शराब लगती हे

 

{हवा में सिक्का उछाला और बोला}

HEADS आया तो WHISKEY,
Tails आया तो VODKA,
जमीन पर खड़ा रहा तो RUM,
और
हवा में ही रहा तो माँ कि कसम
31st से दारु बंद!

sharab shayari in hindi
sharab shayari
sharab ki shayari in hindi
shayari about sharab
sharab shayari by ghalib

पानी में विस्की मिलाओ तो नशा चड़ता है,
पानी में रम मिलाओ तो नशा चड़ता है,
पानी में ब्रेंड़ी मिलाओ तो नशा चड़ता है,
साला पानी में ही कुछ गड़बड़ है…

shayari on sharab in hindi

लोगों ने कहा की मैं शराबी हूँ,
मैने कहा उन्हो ने आँखों से पिलाइ है.
लोगों ने कहा की मैं आशिक़ हूँ,
मैने कहा आशिक़ी उन्हो ने सिखाई है.
लोगों ने कहा राहुल तू शायर दीवाना है,
मैने कहा उनकी मोहब्बत रंग लाई है.

 

महफ़िल में इस कदर पीने का दौर था
हमको पिलाने के लिए सबका जोर था,
पी गए हम इतनी यारो के कहने पर,
न अपना गौर था न ज़माने का गौर था………

 

जाम पे जाम पीने से क्या फायदा दोस्तों
रात को पी हुयी शराब सुबह उतर जाएगी!
अरे पीना है तो दो बूंद बेवफा के पी के देख
सारी उमर नशे में गुज़र जाएगी!

SHARAB SHAYARI IN HINDI
SHARAB SHAYARI IN HINDI

देवदास की तरह जान मत दो यारो
प्यार को लात मारो
मेरी बात मानो
ना चंद्रमुखी ना पारो
रोज़ रात एक स्ट्रॉंग बियर मारो और
चैन से ज़िंदगी गुजारो…

 

हर रोज़ पीता हूँ तेरे छोड़ जाने के ग़म में,
वर्ना पीने का मुझे भी कोई शौंक नहीं,
बहुत याद आते है तेरे साथ बीताये हुये लम्हें,
वर्ना मर मर के जीने का मुझे भी कोई शौंक नहीं |

 

हम तो जी रहे थे उनका नाम लेकर,
वो गुज़रते थे हमारा सलाम लेकर,
कल वो कह गये भुला दो हुमको,
हमने पुछा कैसे!!!!
वो चले गये हाथो मे जाम देकर…

 

जाम पे जाम पीनेसे क्या फायदा,
शाम को पी सुबह उतर जाएगी,
अरे दो बूंद मेरे प्यार की पीले,
जिन्दगी सारी नशेमे गुज़र जाएगी….

 

शराब चीज़ ही ऐसी हाए ना छोडी जाए
ये मेरे यार के जैसी हाए ना छोडी जाए

 

तेरी आँखों से यून तो सागर भी पिए हैं मैने,
तुझे क्या खबर जुदाई के दिन कैसे जिए हैं मैने…

 

जो आसानी से मिले वो है गम,
जो मुश्किल से मिले वो है RUM,
जो किसी किसी से मिले वो है दम,
जो नसीब वालो को मिले वो है हम!!

 

रख ले 2-4 बोतल कफ़न में,
साथ बैठ कर पिया करेंगे,
जब माँगे गा हिसाब गुनाहों का,
एक पेग उससे भी दे दिया करेंगे..

 

नशा हम किया करते है इलज़ाम शराब को दिया करते है…

कसूर शराब का नहीं उनका है जिनका चहेरा हम जाम मै तलाश किया करते है…

 

Teri aankhon se aisi sharab pee maine,
Ke phir na kabhi hosh ka dawa kiya kabhi maine,
Wo aur honge jinhe maut aa gayi hogi,
Nigah-e-yaar se paayi hai zindagi maine.

 

phir aansoo ke kuch fasane nikle,
maikhane se sharab ke paimane nikle,
jo dil ka haal hamara samajh na paaye,
kyu unko hum apne zakhm dikhane nikle.

 

Har Baat Ka Jawab Nahi Hota,
Har Ishq Ka Naam Kharab Nahi Hota,
Yu To Jhum Lete Hai Nashe Mein Peene Wale,
Magar Har Nashe Ka Naam Sharab Nahi Hota.

 

Zindagi ke sawalo ka jawab dhundta hoon,
dard ko kam kar sake wo sharab dhundta hoon,
waqt ke haatho majboor ek shaks hoon main,
jo jeene ka de bahana wo kitaab dhundta hoon.

 

Nasha Jaruri Hai Zindagi ke Liye,
Sirf Sharab Hi kaafi Nahi Hai Bekhudi Ke Liye,
Kisi Ki Mast Nigahon Me Doob Jao ek dafa,
Bada Haseen Samunder Hai Khudkhushi Ke Liye.

 

Har Phool Gulab ka Nahi Hota,
Har Jaam Sharab ka Nahi Hota,
jara Sambhalkar Chalna Mere Dost,
Har Dost Meri Tarah Wafadar Nahi Hota.

 

Koi peeta hai nasha chadhane ke liye,
Koi peeta hai gham bhulane ke liye,
Na jaane kyu duniya kehti hai sharab ko bura,
Sharabi to ise peeta hai bas gam bulane ke liye

 

Har Baat ka Koi Jawab Nahi Hota,
Har Ishq ka Naam Kharab Nahi Hota,
Yu to Jhoom Lete Hai Nashe mein Peene Wale,
Magar Har Nashe ka Naam Sharab Nahi Hota.

 

Pilana farz tha to kuch bhi pila diya hota,
Sharab kam thi to paani mila diya hota,
zuban pe sharm-o-haya ka pehra tha,
To muskura ke sar hi hila diya hota.

 

Ye shayari likhna unka kaam nahi,
Jinke dil aankhon mein basa karte hai,
Shayari toh wo mushroof saksh likhte hai,
Jo sharab se nahi, kalam se nasha karte hai.

 

Dil Bana To aap Deewane Bane,
Sharab Bani To Mekhane Bane,
Kuch To Baat Hai Aap Mein Bhi,
Yui To Nahi hum pagal Bane.

 

Zakham Has Kar Gulab Ho Jaate,
aur Fir Lajawab Ho Jaate,
Tera Daman Na Mil Saka mujhe,
Warna Mere Aansu kb ke Sharab Ho Jate.

 

Mausam bhi hai, umar bhi, shabab bhi hai,
Pehlo mein wo rashk-e-mahtaab bhi hai,
Duniya mein ab or chaiye kya mujh ko,
Saaqi bhi hai saaz bhi hai or sharab bhi hai.

 

Dil Pe Jab Se Sharab Ka Pehra Lag Gaya,
Gam Ka Andar Aane Ka Raasta Band Ho Gaya,
Zubaan Ne Jab Se Sharab Ko Chhu Liya,
Uska Naam Hamesha Ke Liye Bhool Gaya.

 

Nashe Mein Jeene Ka Maja Aata Hai,
Unki Aankho Se Peene Ka Maja Aata Hai,
Sharab Ki Bottle Ki Tarah Lagti Hai Wo,
Use Puri Pee Jaane Ko jee chahta Hai

 

Roshni karta hu andhera mitane ke liye,
Sharab pita hu main tujko bhulane ke liye,
Kyo na ban saki tum meri zindagi ki mehbooba,
Aaj bhi rota hu main gujre zamane ke liye

 

Log peete hai sharab mehkhane ja-ja kar,
jo do pal mein utar jayegi,
humne to pee hai apne mehboob ki aankho se,
jo umar bhar naa utar payegi.

 

Dil Pe Jab Se Sharab Ka Pehra Lag Gaya,
Gam Ka Andar Aane Ka Raasta Band Ho Gaya,
Zubaan Ne Jab Se Sharab Ko Choo Liya,
Uska Naam Hamesha Ke Liye Bhool Gaya

 

Apni hi garaj se jee rahe hai jo log,
apni hi kbaye see rahe hai jo log,
unko bhi hai kya sharab peene se gurej,
insaan ka khoon pee rahe hai jo log.

 

Har Baat ka Koi Jawab Nahi Hota,
Har Ishq ka Naam Kharab Nahi Hota,
Yooh to Jhoom Lete Hai Nashe mein Peene Waale,
Magar Har Nashe ka Naam Sharab Nahi Hota.

 

Mausum Bhi Hai Sharab Bhi Hai
Pehlu Mein Wo Ishq Mehtab Bhi Hai
Duniya Mein Ab Aur Chaiye Kya Mujhko,
Shaaki Bhi Hai Saj Bhi Hai Sharrab Bhi Hai

sharab shayari in hindi
sharab shayari
sharab ki shayari in hindi
shayari about sharab
sharab shayari by ghalib

Amiri ke khwab Dekhne laga,
Angreji Sharab Chakhane laga,
Baap ne kabhi computer nahi dekha,
aur beta laptop rakhne laga.

 

Hamesha yaad aati hai unki,
Aur mood ho jata hai kharab,
Tab Hamesha lekar baithe hai hum,
ek hath me Kalam aur ek hath me sharab.

 

Pee Hai Sharab Har Gali Ki Dukan Se,
Dosti Si Ho Gayi Hai Sharab Ke Jaam Se,
Gujre Hai Hum Kuch Aise Mukam Se,
Ki Aankhen Bhar Aati Hai Mohabbat Ke Naam se

 

Aapke waste gunaah hi sahi,
Hum piye to sabab banti hai,
Bahot gamo ko sanjone ke baad,
Ek katra yaha sharab banti hai.

 

Yeh jawani gulaab ho jaaye,
Muyassar agar sharab ho jaaye,
Isi madhosh halat mein farishto,
Aao phir aaj ek-ek jam ho jaaye.

 

Yeh jawani gulaab ho jaaye,
Muyassar agar sharab ho jaaye,
Isi madhosh halat mein farishto,
Aao phir aaj ek-ek jam ho jaaye.

 

Hum laakh ache sahi par log kharab kehte Hai,
Bigda hua humko wo Nawab kehte Hai,
Hum to aise badnam ho gye Hai,
ki pani bhi piye to Log sharab kehte hai

 

sharab shayari in hindi
sharab shayari
sharab ki shayari in hindi
shayari about sharab
sharab shayari by ghalib

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*